ओलावृष्टि से किसानों और बागवानों को जाे नुकसान हुआ है उसका मुआवजा दे सरकार

18 जून को ठियोग में किसान संघर्ष समिति करेगी बैठक
मांगों को लेकर ज्ञापन एस डी एम ठियोग के माध्यम से मुख्यमंत्री को दिया जाएगा
जया शर्मा.देवलोक न्यूज शिमला
किसान संघर्ष समिति हाल ही में शिमला, सिरमौर, चम्बा, सोलन व कुल्लू जिलों में तूफान व ओलावृष्टि से फलों व सब्जियों को हुई भारी क्षति पर गहरी चिंता व्यक्त करती है तथा प्रदेश सरकार से प्रभावित क्षेत्रों में तुरंत सर्वेक्षण करवा कर किसानों व बागवानों को उचित मुआवजा देने की मांग की हैं।
वहीं सबसे अधिक नुकसान शिमला जिला के नेरवा, बमटा, ठियोग की भराना, कमाह, संधू, मतयाना, चियोग, फागू, घूण्ड, बगैन, सरीवन सिरमौर के हरिपुरधार, नोहराधार, संगड़ाह, शिलाई, आदि क्षेत्रों में हुआ है। इसमे सेब, नाशपाती, प्लम, खुमानी, बादाम, गोभी, टमाटर आदि की फ़सल लगभग तबाह हो गई है। अंधड़ व तूफान की गति इतनी भयंकर थी कि कई स्थानों पर तो पेड़ व मकानों की छतें ही बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। ओलावृष्टि से बचने के लिए जिन बागवानों ने जालियाँ डाल रखी थी उनकी जालियाँ भी टूट गई जिससे फल भारी मात्रा में झड़ गये है।
इस तूफान व ओलावृष्टि से करोड़ों रूपये की फसल बर्बाद हो गई है तथा किसानों व बागवानों की कमर तोड़ कर रख दी है। इस क्षतिपूर्ति के किसान संघर्ष समिति सरकार से से मांग की है कि प्रभावित क्षेत्रों में फसल की बर्बादी का तुरंत आंकलन करवा कर प्रभावित किसानों व बागवानों को उचित मुआवजा दिया जाए। इसके साथ जिन किसानों व बागवानों को फसल बीमा योजना के तहत लिया गया है उन्हें तुरंत मुआवजा राशी बीमा कंपनी के द्वारा प्रदान की जाए तथा इन किसानों व बागवानों की ऋण की वसूली पर तुरन्त रोक लगाई जाए। इन माँगो को लेकर किसान संघर्ष समिति अन्य किसानों संगठनों के साथ मिलकर एक बैठक 18 जून को ठियोग में 11बजे प्रातः रेस्ट हाउस में आयोजित करने जा रही हैं तथा इन मांगों को लेकर एक ज्ञापन एस डी एम ठियोग के माध्यम से मुख्यमंत्री को दिया जाएगा। किसान संघर्ष समिति के सचिव संजय चौहान ने संगठनों के पदाधिकारियों से बढ़चढ़ कर भाग लेने को कहा हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

16 + 8 =