प्रत्येक व्यक्ति को स्वामी विवेकानंद की शिक्षाओं व ज्ञान को आत्मसात कर आगे बढ़ना चाहिए: सुरेश भारद्वाज

जया शर्मा.देवलोक न्यूज.शिमला

स्वामी विवेकानंद का वैश्विक भाईचारे व विश्व शांति का संदेश वर्तमान समय में अत्यधिक महत्वपूर्ण व उपयोगी है जिसका सभी देशों को अनुस्रण कर अमल करना चाहिए ताकि आतंकवाद व अन्य समस्याओं को परस्पर नष्ट किया जा सके। यह उद्गार शिक्षा, विधि एंव संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज ने बुधवार को विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी की शिमला शाखा तथा भाषा एवं संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित विश्व बंधुत्व दिवस के अवसर पर गेयटी थियेटर में आयोजित कार्यक्रम में अपने सम्बोधन में व्यक्त किए।

शिक्षा मंत्री विजेता बच्चों को पुरस्कृत करते हुए

उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद द्वारा भारत के सर्व समावेशी, एकात्मक और सर्वांगिण जीवन दृष्टि के आधार पर विश्व बंधुत्व का विचार शिकागो सम्मेलन में सबके सम्मुख रखा गया था। उन्होंने इस विचार के माध्यम से भारतीय गौरवमयी संस्कृति तथा सहिष्णुता को विश्व के सामने सम्प्रेषित किया था।उन्होंने कहा कि आज प्रत्येक व्यक्ति को स्वामी विवेकानंद की शिक्षाओं व ज्ञान को आत्मसात कर आगे बढ़ना चाहिए।

शिक्षा मंत्री विजेता बच्चों को पुरस्कृत करते हुए

उन्होंने इस अवसर पर आयोजित भाषण प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत किया जिसमें सेंट एडर्वड स्कूल के आदित्य प्रथम, एस डी स्कूल के मृणाल जोशी द्वितीय तथा चैप्सली स्कूल के युन्ति ठाकुर तृतीय रहे।वरिष्ठ वर्ग में बल्देयां विद्यालय की श्रुतिका प्रथम पोर्टमोर की पारूल द्वितीय तथा लोरेटो भराड़ी की गुन्जन तृतीय रही।

यह रहे मौजूद 

कार्यक्रम की अध्यक्षता विवेकानंद केन्द्र कन्याकुमारी के संयुक्त महासचिव प्रवीण दभोलकर ने की। उन्होंने युवाओं के चरित्र निर्माण में स्वामी विवेकानंद की भूमिका तथा उनके द्वारा देश के उत्थान के लिए किए गए कार्यों का उल्लेख किया। कार्यक्रम में विवेकानंद केन्द्र शिमला, के के.के. शर्मा व कल्पना मेहता, दिवाकर वर्मा, नीरज शर्मा उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

two × three =