11 जून को सफाई कर्मचारियों की समस्याओं को जानने के लिए शहर का दौरा करेगा राष्ट्रीय सफाई आयोग

देवलोक ब्यूरो

राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग के अध्यक्ष मनहर वालजी भाई ज़ाला ने कहा कि आयोग सफाई कर्मचारियों के सामाजिक, आर्थिक एवं शैक्षणिक उत्थान के लिए प्रतिबद्ध है और इस दिशा में केंद्र सरकार एवं विभिन्न राज्य सरकारों के सहयोग से सतत प्रयास किये जा रहे हैं। मनहर वालजी भाई ज़ाला सोमवार को  यहां जिला स्तर के विभिन्न अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

इससे पूर्व, उन्होंने नगर निगम शिमला की महापौर कुसुम सदरेट, उप महापौर राकेश शर्मा, विभिन्न पार्षदों तथा विभिन्न सफाई कर्मचारी संघों के सदस्यों से उनकी समस्याओं इत्यादि के संबंध में गहन विचार-विमर्श किया। मनहर वालजी भाई ज़ाला ने जिला के अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि राष्ट्र को सभी सफाई कर्मचारियों का ऋणी होना चाहिए, क्योंकि इन्हीं के माध्यम से हम देश की स्वच्छता के बड़े कार्य को सम्पन्न करते हैं। उन्होंने कहा कि सभी को सफाई कर्मचारियों के प्रति अपने दृष्टिकोण में सकारात्मक बदलाव लाना चाहिए।

राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग के अध्यक्ष ने अधिकारियों का आह्वान किया कि वे सफाई कर्मचारियों के हित में राष्ट्रीय तथा राज्य स्तर पर कार्यान्वित की जा रही विभिन्न योजनाओं को लक्षित वर्गों तक पहुंचाएं, ताकि वे उनसे लाभान्वित हो सके। मनहर वालजी भाई ज़ाला ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश को पूर्ण रूप से स्वच्छ बनाकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सपने को पूर्ण करना हम सभी का कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि आयोग द्वारा पहली बार 12 जून, 2019 को टुटीकंडी बाईपास पर स्थित कार पार्किंग परिसर में एक वृहद जागरूकता शिविर आयोजित किया जा रहा है। इस शिविर में जहां सफाई कर्मचारियों एवं उनके परिजनों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा, वहीं उन्हें अपने कार्यों के दौरान आवश्यक सुरक्षा मानक अपनाने के विषय में भी जागरूक किया जाएगा। उन्हें श्रम विभाग के विभिन्न निर्देशों एवं केंद्र तथा राज्य सरकार की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी भी दी जाएगी।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए सफाई कर्मचारी आयोग के अध्यक्ष मनहर वालजी भाई ज़ाला

मनहर वालजी भाई ज़ाला ने कहा कि सफाई कर्मचारी स्वच्छता अभियान के प्रहरी हैं और उनका सम्मान देश का सम्मान है। उन्होंने नगर निगम शिमला को निर्देश दिए कि शिक्षित सफाई कर्मचारियों को सैनिटरी डिप्लोमा करवाने की दिशा में पग उठाए जाएं। उन्होंने वर्ष में दो बार सफाई कर्मचारियों एवं उनके परिजनों का पूर्ण स्वास्थ्य परीक्षण करवाने के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी शिमला को निर्देश दिए। उन्होंने अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी कानून एवं व्यवस्था को निर्देश दिए कि सफाई कर्मचारियों की बैंक ऋण से संबंधित समस्याओं का निदान जिला के अग्रणी बैंकर्ज समिति की बैठक में किया जाएगा। उन्होंने सफाई कर्मचारियों के लिए बेहतर आवास व्यवस्था सुनिश्चित बनाने के निर्देश भी दिए।

नगर निगम के अधिकारियों सहित वैल्फेयर सोसायटी के प्रतिनिधि भाग लेते हुए

उन्होंने कहा कि आयोग राज्य स्तर के विभिन्न मुद्दों को 13 जून को आयोजित होने वाली बैठक में उठाएगा। उन्होंने कहा कि आयोग 11 जून को सफाई कर्मचारियों की समस्याओं को जानने के लिए शहर का दौरा भी करेगा। बैठक में जानकारी दी गई कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मल्याणा में आवास निर्माण के लिए स्थान चिन्हित कर लिया गया है।
नगर नगम शिमला के आयुक्त पंकज राय ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया एवं उन्हें स्थानीय शहरी निकायों एवं विभिन्न अधिनियमों की अनुपालना की विस्तृत जानकारी प्रदान की। उन्होंने विश्वास दिलाया कि आयोग के निर्देशों की पूर्ण अनुपालना सुनिश्चित की जाएगी। नगर निगम शिमला के संयुक्त आयुक्त अनिल शर्मा ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।
विभिन्न सफाई कर्मचारी संघों के प्रतिनिधियों ने सफाई कर्मचारियों को अधिक दक्ष बनाने, अनुबंध कार्य के स्थान पर नियमित कर्मी नियुक्त करने तथा अनुबंध कर्मियों के वेतन को बढ़ाने की मांग आयोग के समक्ष प्रस्तुत की।
इस अवसर पर पूर्व विधायक सोहन लाल, पूर्व महापौर सोहन लाल एवं जैनी प्रेम, कृष्णानगर वार्ड के पार्षद बिट्टू पान्ना, पूर्व महापौर, अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी कानून एवं व्यवस्था प्रभा राजीव, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रवीर ठाकुर, उपमंडलाधिकारी शहरी नीरज चांदला, जिला के अन्य वरिष्ठ अधिकारी, सफाई कर्मचारी यूनियन, वाल्मीकि सभा कृष्णा नगर एवं अंबेदकर वैल्फेयर सोसायटी के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

2 × five =