एपीजी शिमला विश्वविद्यालय को मिला मानव संसाधन मंत्रालय का ‘स्वयंप्रभा’-एन पी टी ई एल

एपीजी में खुशी की लहर शिमला

देवलोक न्यूज.शिमला

एपी गोयल शिमला कोविड-19 के संकट वाले दौर में भी अपने विद्यार्थियों को ऑनलाइन पढाई करवाने में सक्षम व पूर्णरूप से सफल रहा है। इसी को देखते हुए बुधवार को एपीजी शिमला विश्वविद्यालय के चैप्टर में एक और सफलता दर्ज हो गई है। विश्वविद्यालय प्रशासन और फैकल्टी द्वारा अभी तक करवाई गई सफलता पूर्ण ऑनलाइन पढाई और सुलभ अध्ययन सामग्री उपलब्ध करवाने व ऑनलाइन टेस्ट में अव्वल रहने पर मानव संसाधन मंत्रालय व यूजीसी की ओर से ‘स्वयं प्रभा ‘ ऑनलाइन स्टडी पोर्टल के अंतर्गत ‘नेशनल प्रोग्राम ऑन टीचिंग लर्निंग -एन पी टी ई एल लोकल चैप्टर का प्रोजेक्ट प्राप्त हुआ है जिसके जरिए अब एपीजी शिमला विश्विद्यालय अपने विद्यार्थियों को और अधिक बेहतर ढंग से सभी कोर्स की ऑनलाइन पढ़ाई करवाएगा ताकि विद्यार्थियों को स्टडी मटेरिअल से लेकर ऑनलाइन क्लासेज अटेंड करने में और अधिक आसानी हो और विद्यार्थी चौबीस घंटे अपने डैश बोर्ड पर अपने कोर्स के स्टडी मटेरिअल का अवलोकन कर सकें। इस प्रोजेक्ट की सफलता का श्रेय एपीजी शिमला विश्विद्यालय के इंजीनियरिंग विभाग के वरिष्ठ विभागाध्यक्ष डॉ. सुनील ठाकुर, इंजीनियरिंग विभाग के डीन प्रो. डॉ. आनंद मोहन और एपीजी शिमला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. डॉ. आरके चौधरी को जाता है। इस प्रोजेक्ट को हासिल करने पर कुलपति चौधरी ने डॉ. सुनील ठाकुर को उनकी मेहनत के लिए बधाई देते हुए कहा कि यह एपीजी शिमला विश्वविद्यालय के लिए बड़े गौरव की बात है कि यह प्रोजेक्ट हिमाचल प्रदेश में एक मात्र विश्वविद्यालय एपीजी शिमला विश्वविद्यालय को प्राप्त हुआ। कुलपति चौधरी ने कहा कि अब इस प्रोजेक्ट के तहत विद्यार्थियों को ऑनलाइन पढ़ाई करवाने में और निखार आएगा और विद्यार्थी क्लासरूम स्टडी जैसा स्टडी वातावरण महसूस करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

5 × five =