चयनित अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह आंगनबाड़ी केंद्रों का दौरा करें

एकीकृत बाल विकास सेवाएं कार्यक्रम के अंतर्गत शुक्रवार को खंड स्तरीय अनुश्रवण एवं समन्वय व पोषण अभियान समिति की बैठक का आयोजन किया गया, जिसकी अध्यक्षता उपमंडलाधिकारी शिमला (शहरी) नीरज चांदला ने की।
उन्होंने बताया कि परियोजना के तहत 82 आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से 0 से 6 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों को पूरक पोषाहार, टीकाकरण, नियमित स्वास्थ्य जांच, अनौपचारिक शालापूर्व शिक्षा तथा तीव्र कुपोषित बच्चों को रैफरल सेवाएं प्रदान की जा रही है।

उन्होंने बताया कि सभी आंगनबाड़ी केंद्रों में किचन गार्डेनिंग को सफल बनाया गया है तथा कृषि विभाग से भविष्य में भी इस बारे सहयोग करने की अपील की।
उन्होंने बताया कि पोषण अभियान के अंतर्गत सभी विभागों से एक नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाएगा, जो पोषण अभियान योजना में समन्वय स्थापित कर अभियान की सफलता के लिए उत्तरदायी होंगे तथा चयनित अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह आंगनबाड़ी केंद्रों का दौरा करें व आईसीडीएस केस में अपनी उपस्थिति दर्ज करें।
उपमंडलाधिकारी शिमला शहरी ने शिक्षा विभाग को निर्देश दिए कि आंगनबाड़ी केंद्रों के तर्ज पर सभी प्राथमिक स्कूलों में भी बच्चों का पोषण स्तर मापा जाए एवं बच्चों के रिपोर्ट कार्ड में पोषण स्तर को दर्शाया जाए, ताकि कोई भी बच्चा कुपोषित ना हो सके।
उन्होंने पोषण स्तर को बेहतर बनाने के लिए समिति के सभी अधिकारियों को समन्वय स्थापित करने के निर्देश दिए।
बैठक में बाल विकास परियोजना अधिकारी शिमला शहरी ममता पाॅल,  उप-निदेशक प्रारंभिक शिक्षा, निरीक्षक खाद्य एवं सामाजिक वितरण विभाग, चिकित्सा अधिकारी मशोबरा, खंड समन्वय अधिकारी, समग्र शिक्षा, कृषि विभाग, तहसील कल्याण अधिकारी एवं अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

one × one =