जितना सुना था, यह पहाड़ी प्रदेश उससे कहीं अधिक समृद्ध: राज्यपाल

देवलोक न्यूज.शिमला

राजभवन में चिनार का पौधा रोपते राज्यपाल

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने शुक्रवार को हिमाचल प्रदेश में राज्यपाल के रूप में अपने कार्यकाल का एक वर्ष पूरा होने पर राजभवन परिसर में चिनार का पौधा रोपा।इस अवसर पर उन्होंने कहा कि हिमाचल के बारे में उन्होंने जितना सुना था, यह पहाड़ी प्रदेश उससे कहीं अधिक समृद्ध, विविध संस्कृति एवं धार्मिक रूप से पोषित राज्य है और यहाँ के लोग वास्तव में संतुष्ट, प्रसन्न और सरल प्रवृत्ति के हैं। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश के प्राकृतिक सौन्दर्य ने मुझे प्रकृति के विराट एवं समृद्ध परिदृष्य को जानने-समझने का अवसर दिया है और सृष्टि के प्रति और अधिक श्रद्धा से भर गया हूँ। उन्होंने कहा कि हिमाचल में एक वर्ष का कार्यकाल व्यक्तिगत तौर पर उनके लिए अत्याधिक प्रेरणादायी रहा है और वह प्रदेश की सांस्कृतिक विरासत के प्रति श्रद्धा महसूस करते हैं।उन्होंने कहा कि कौशल विकास, प्राकृतिक कृषि, युवाओं में नशे की प्रवृत्ति को रोकना,स्वच्छता अभियान और सामाजिक समरसता में प्राथमिकता से कर रहे है।उन्होनें कहा कि प्रदेश के युवा नशे की आदत छोडें और विकास प्रक्रिया में भागीदारी करें।जिसके लिए भारत सरकार व प्रदेश सरकार के कौशल विकास के कार्यक्रमों को और अधिक गंभीरता से और समयबद्ध तरीके से लागू किए जाने की आवश्यकता होगी।साथ ही हिमाचल में पर्यटन, कृषि,बागवानी और पर्यावरण से तालमेल बनाकर स्थापित किए जाने वाले उदोगों में अपार संभावनाये हैं। इन सभी क्षेत्रों में भी अतंरराष्ट्रीय स्तर की गतिविधियां लाते हुए देश और दुनिया के सर्वश्रेष्इ संस्थान स्थापत करने चाहिए।

इस मौके पर उन्होंने कार्यक्रम और आंदोलन के समय कोविड़ नियमों का पालन करने कि हिदायत दी हैं। उन्होंने राजनैतिक पार्टियों और अन्य संगठनों को कहा कि कोरोना महामारी के दौरान वह ऐसे समय में इस तरह का कदम न उठाए। जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न हो रहा हो।

डाक्यूमेंट्री और पुस्तक का कवरेज पेज भी जारी किया

उन्होंने इस अवसर पर शिमला जिले के बसंतपुर स्थिति वृद्धाश्रम में रहने वाले व्यक्तियों को वस्त्र एवं अन्य सामग्री भिजवाई। उन्होंने हवन यज्ञ किया और गौ पूजा भी की।राज्यपाल ने इस अवसर पर राजभवन द्वारा तैयार एक वर्ष के कार्यकाल पर आधारित डाक्यूमेंट्री और पुस्तक का कवरेज पेज भी जारी किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

twelve − 3 =