पर्यावरण संरक्षण से जुड़ा है यज्ञ का महत्व : आचार्य देवव्रत

देवलोक न्यूज .शिमला

राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कहा कि प्रेम, शांति और प्राकृतिक संरक्षण हमारी संस्कृति अभिन्न अंग रहे हैं। हमारे ऋषि-मुनियों ने यज्ञ को प्राकृतिक स्वच्छता के लिए महत्वपूर्ण और अनिवार्य कहा है, जिसे आज हम छोड़ चुके हैं।राज्यपाल ने कहा कि भारतीय ऋषियों ने पर्यावरण संरक्षण और शांति के चिंतन से वर्षों पूर्व ही मानव को अवगत करवा दिया था। हमारी संस्कृति के अभिन्न अंग वेद हर मंत्र शांति से ही आरम्भ होता है। लेकिन, मौजूदा परिप्रेक्ष्य में भोगवादी संस्कृति ने पर्यावरण को सबसे अधिक नुकसान पहुंचाया है। विकास के बावजूद हम अपने ऋषि-मुनियों के दिखाए मार्ग और चिंतन तक नहीं पहुंच पाए हैं। आज हम वैष्विक उष्मीकरण से चिंतित हैं। पौधरोपण के अतिरिक्त आज हमारे पास पर्यावरण बचाने के लिए कोई समाधान नहीं है। जबकि, उस काल में हमारे ऋषि-मुनियों ने इस समाधान दिया और वह था जीवन जीने की शैली, ताकि हम प्राकृति से छेड़-छाड़ न कर पाएं और हमें आध्यात्मिक चिंतन व त्यागवादी संस्कृति से जोड़ा। उन्होंने बताया कि प्राकृति से हमारा संबंध ठीक वैसा होना चाहिए जैसे माता-पिता का अपने पुत्र के साथ होता है। परमात्मा की व्यवस्था में हमें सहयोग करना चाहिए न कि उसे नष्ट करने की कोशिश करनी चाहिए।

राज्यपाल सोका गक्कई अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनी का शुभारंभ करते हुए

आचार्य देवव्रत ने कहा कि इस मौके पर प्राकृतिक कृषि को पर्यावरण संरक्षण से जोड़ते हुए इसके महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने इस कार्यक्रम के आयोजक सोका गक्कई इंटरनेशनल और भारत सोका गक्कई के प्रयासों की भी सराहना की तथा कहा कि मानव का पर्यावरण के साथ गहरा नाता है तथा प्रदर्शनी के माध्यम से इस संबंध को उजागर करने की कोशिश की गई है। उन्होंने कहा कि राज्य के पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रदेश भर में एक दिन में करीब 11 लाख पौधारोपण करने पर योजना तैयार की जा रही है, जिसे शीघ्र ही कार्यान्वित किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि मानव का पर्यावरण के साथ गहरा नाता रहा है। और इसी संबंध को प्रदर्शनी के माध्यम से दर्शाने और जागरूकता लाने की जो कोशिश की गई है वह इसके उद्देश्य को स्पष्ट करती है। पर्यावरण की रक्षा और इसके सुधार के लिए व्यक्तिगत प्रयासों पर ध्यान केंद्रित करते हुए यह प्रदर्शनी दर्शकों को उनकी असमर्थता व बेबसी को भावना को दूर करने के लिए भी प्रोत्साहित करती है। प्रदर्शनी के माध्यम से बताने की कोशिश की गई है कि स्थितरता न केवल पर्यावरण की रक्षा से जुड़ी है बल्कि सामाजिक न्याय और शांति को भी सुनिश्चित बनाती है।इसके पश्चात्, राज्यपाल ने प्रदर्शनी का उद्घाटन कर इसका अवलोकन किया।

इस अवसर पर विशेष अतिथि के तौर पर आए नागालैंड के पूर्व राज्यपाल डॉ. अश्वनी कुमार ने सतत विकास के विषय पर विचार गोष्ठी आयोजित करने के लिए भारत सोका गक्कई के प्रयासों की सराहना की और इस विषय में अपने अनुभवों के साथ विस्तार से चर्चा की।

भारत सोका गाकाई की राष्ट्रीय नेता सुजाता मनकोटिया ने राज्यपाल व अन्य अतिथियों का स्वागत किया और प्रदर्शनी से संबंधित तथ्यों की जानकारी दी।भारत सोका गाकाई की हिमाचल अंचल की नेता अनूप सूद ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।राज्यपाल के सलाहकार डॉ. शशीकांत शर्मा, भारत सोका गाकाई के हिमाचल अंचल के नेता  शरब नेगी  तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

five + 7 =