प्रशिक्षुता और कौशल विकास निगम के कार्यक्रमों पर कार्यशाला का आयोजन

देवलोक न्यूज .शिमला

हिमाचल प्रदेश कौशल विकास निगम के कार्यक्रमों और प्रशिक्षुता पर आज यहां राष्ट्रीय कौशल विकास निगम के सहयोग से एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला को संबोधित करते हुए कौशल विकास निगम के राज्य समन्वयक नवीन शर्मा ने कहा कि प्रशिक्षण के दौरान उम्मीदवारों के साथ-साथ अभिभावकों के साथ भी परामर्श अनिवार्य है। उन्होंने कहा कि युवा अपने भविष्य को लेकर क्या निर्णय लेते है यह अभिभावकों के मार्गदर्शन पर काफी निर्भर करता है। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण प्राप्त करने के उपरान्त उम्मीदवार को बेहतर रोजगार प्राप्त करने की दिशा में प्रयास करने चाहिए। उन्होेंने कहा कि प्रशिक्षण प्रदान करने वाली संस्था को अच्छी कम्पनियों की सेवाएं लेनी चाहिए ताकि उम्मीदवारों को बेहतर रोजगार और अच्छा वेतन मिल सके।
कौशल विकास निगम के महाप्रबन्धक रोहन चन्द ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश देश में सर्वाधिक प्रति व्यक्ति आय वाला राज्य है। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण कार्यक्रमों के आयोजन पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है ताकि इनसे विद्यार्थियों को उचित लाभ मिल सके। उन्हांेने प्रशिक्षण के लिए उन संस्थानों को जोड़ने पर बल दिया जिनके पास बेहतर प्रशिक्षण की सुविधा और योग्य प्रशिक्षक हों।

 

कौशल विकास निगम के प्रबन्धक डाॅ. सुनील ठाकुर ने कहा कि निगम विभिन्न क्षेत्रों में प्रशिक्षण प्रदान कर रहा है। उन्होंने कहा कि उम्मीदवार के समग्र विकास के लिए कौशल विकास अनिवार्य है।

 

राष्ट्रीय कौशल विकास निगम के वासु शर्मा ने प्रशिक्षुता के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि भारत युवाओं का देश है जहां युवा शिक्षित एवं कौशल प्राप्त हैं लेकिन बाजार की मांग के अनुरूप तैयार नही है जिसके कारण रोजगार की दर कम है। प्रशिक्षुता के माध्यम से हम उद्योगों की मांग के अनुरूप युवाओं का कौशल विकास कर सकते हैं।

 

राज्य कौशल विकास निगम के प्रशिक्षण प्रमुख मंगत चैहान ने निगम के प्रमुख कार्यक्रमों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि निगम अधोसंरचना विकास और आईटीआई में उपकरणों के स्तरोन्यन पर कार्य कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

eleven − 3 =