सितंबर में सितारों की बदली चाल, केैसा रहेगा अब हाल :मदन गुप्ता सपाटू

जया शर्मा.शिमला

ज्योतिष के अनुसार, हमारा जीवन सितारों की चाल से चलता है। नौ ग्रह, 12 राशियों तथा 27 नक्षत्रों का ही खेल है सारा इस संसार में। चाहे समुद्र का ज्वार भाटा हो , भूकंप, प्राकृतिक आपदा, महामारी, सत्ता परिवर्तन या इस संसार में होने वाली घटनाएं, इनका पूर्वालोकन ग्रहों की चाल पर ही निर्भर होता है। चंद्र जैसे ग्रह सवा दो दिन में , कुछ ग्रह बहुत जल्दी राशि परिवर्तन करते हैं तो कुछ ग्रह 30 महीने लगा देते हैं। कुछ तीव्र गति से चलते हैं तो कुछ वक्री हो जाते हैं। ज्योतिष शास्त्र ,इन्हीं परिवर्तन के आधार पर पूरे विश्व में आने वाली घटनाओं की भविष्यवाणियां करता है।13 सितंबर के दिन सभी ग्रह अपनी अपनी राशियों में स्थित थे।ऐसे ज्योतिषीय संयोग ,रावण पुत्र इंद्रजीत और भगवान राम के जन्म के समय पाए गए थे। दोनों ही अदम्य साहस के प्रतीक थे।

ज्योर्तिविद मदन गुप्ता सपाटू के अनुसार केवल शुक्र को छोड़ कर, 9 में से 8 ग्रह सब अपनी श्रेष्ठ राशियों में विराजमान थे ।ऐसा कई सदियों में केवल एक बार होता है। अब ऐसा संयोग 2050 में भी बनेगा।सितंबर 2020 में मुख्य ग्रह अपना स्थान बदल रहे हैं।  कुछ बदल चुके हैं कुछ बदल रहे हैं ।

16 तारीख को सूर्य कन्या राशि में आ गए हैं

मंगल ग्रह 10 सितंबर से मेष राशि में वक्री है और फिर यह 14 नवंबर को मार्गी होगा। मंगल की वक्री चाल 66 दिनों की रहेगी।क्रूर ग्रह मानेजाने वाले मंगल की टेढ़ी चाल का असर कुछ राशियों के लिए अच्छा संकेत नहीं माना जा रहा है। इससे कुछ राशियों को नुकसान उठाना पड़सकता है। कुछ राशियों को इसका लाभ भी प्राप्त होगा।

बुध 22 सितंबर को तुला में जाएगा

जहां बुध के कन्या राशि में गोचर को कुछ राशियों के लिए शुभफलदायी माना जा रहा है। तो वहीं तुला राशिमें बुध का प्रवेश सभी राशियों के लिए मिलाजुला असर दिखाएगा।

बृहस्पति 13 सितंबर से अपनी राशि धनु में हैं

गुरु की सीधी चाल का असर कई राशि के जातकों के लिए बेहद शुभ फलदायी माना जा रहा है।ज्योतिष में गुरु को धन, स्वर्ण और सुख सुविधा का कारक माना जाता है।

शुक्र कर्क राशि में 28 सितंबर तक स्थित रहेगा

राहु और केतु 18 माह के लिए राशि परिवर्तन कर रहे हैं। राहु व केतु 18 माह में एक बार राशि परिवर्तन करते हैं। जबकि शनि 29 सितंबर कोमार्गी हो जाएंगे।

राहु 23 सितंबर को अपनी चाल बदल रहा है

राहु इस दिन मिथुन राशि से वृष राशि में गोचर करेगा और इस राशि में 12 अप्रैल 2022 तक इसीराशि में स्थित रहेगा। राहु की चाल हमेशा उल्टी दिशा में होती है। राहु का राशि परिवर्तन इस साल की सबसे बड़ी ज्योतिषीय घटनाओं में से एकहै। अतः इसका प्रभाव भी सभी राशियों पर जबरदस्त तरीके से पड़ेगा।

ज्योर्तिविद मदन गुप्ता सपाटू के अनुसार केतु ग्रह  23 सितंबर को धनु से वृश्चिक राशि में गोचर कर रहा है। केतु का गोचर इस साल की बड़ी ज्योतिषीय घटनाओं में से एक है। केतु के इस गोचर का असर सभी राशियों पर पड़ेगा। यह प्रभाव शुभ-अशुभ रूप में हो सकता है। वैदिक ज्योतिष में केतु ग्रह को एक छाया ग्रहहै। यह मोक्ष, अध्यात्म और वैराग्य का कारक है और एक रहस्यमी ग्रह है।

राहु ,गुरु व शनि की चाल बदलने से प्रत्येक राशि पर असर दिखाई देगा, लेकिन इनके राशि परिवर्तन से शुभ संकेत भी दिखाई देंगे।  लेकिन कोरोना का भय अप्रैल 2021 तक बना रहेगा।वक्री मंगल युद्ध जेैसे हालात उत्पन्न कर सकता है, अग्निकांड, तोड़फोड़, गोलीबारी, विस्फोट जैसी घटनाएं इंगित करता है।राहू बड़े पविर्तन लाता है।राहु और केतु दोनों अन्य ग्रहों से विपरीत दिशा में गोचर करते हैं।एक राशि में 18 महीने भ्रमण करने वाले राहु 23 सितंबर 2020 बुधवार के दिनराशि परिवर्तन कर मिथुन से वृषभ राशि में गोचर करने वाले हैं।

राशि पर प्रभाव

मेष

आर्थिक स्थिति सुधर सकती है। पिछले समय में हुए नुकसान की भरपाई हो सकती है। किसी तीर्थस्थल की भी यात्रा कर सकते हैं। वाणी मेंकठोरता आने की संभावना है, जिससे परिवार और प्रियजनों के साथ वाद-विवाद की स्थिति पैदा होगी।इस दौरान व्यवसायी और नौकरीपेशालोगों को आर्थिक नुकसान झेलने पड़ सकते हैं। शत्रुओं के हावी होने की संभावना है, नौकरीपेशा लोग कार्यस्थल पर तनाव महसूस कर सकते हैं।

वृषभ

धन संबंधी कार्यों में सावधान रहें। दिखावे से बचें। बचत पर ध्यान देना होगा। रिसर्च से जुड़े लोगों को किसी शोध में नई जानकारियां प्राप्त होसकती हैं।कार्यक्षेत्र में आपकी बुद्धि तीक्ष्ण होगी, लेकिन आप लोगों को समझने में भूल कर सकते हैं। इस दौरान आपका भाग्य आपका पूरा साथदेगा, आपकी संतान को भी इसका लाभ मिलेगा। हालांकि आपको अपनी वाणी पर संयम बरतने की सलाह है। हनुमानजी की उपासना करें।

मिथुन

कार्यक्षेत्र में मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। वैवाहिक जीवन में परेशानियां आ सकती हैं। आर्थिक स्थिति सामान्य रहेगी।नौकरी मेंट्रांसफर या अन्य मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। इस दौरान पुराने रोग से पुनः उभरने की संभावना है। अकस्मिक खर्च और व्यय बढ़ने सेआर्थिक मुश्किलें पैदा होंगी। परिवार और परिजनों से दूर जाना पड़ सकता है। इस दौरान अपनी और अपने परिजनों की सेहत का विशेष ध्यानरखें। विदेश के व्यापार से जुड़े जातकों के लिए यह अच्छा समय भी कहा जा सकता है। भगवान गणेश को दुर्वा अर्पण करें।

कर्क

इस दौरान आपको कई मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।शत्रु आप पर हावी हो सकते हैं। सेहत का खास ख्याल रखें।आपकी आय में वृद्धिहोगी, आय के नए स्रोत मिलने की संभावना है। राहु आपके जोश और पराक्रम में वृद्धि करेंगे, जिससे आपको हर कार्य में सफलता मिलेगी। इसदौरान आपके मन की हर इच्छा पूरी होगी। दुर्वा घास में रोजाना पानी दें।

सिंह

जीवनसाथी के साथ गलतफहमियां बढ़ सकती हैं। छात्रों के लिए उत्तम समय है। व्यापार में तरक्की मिल सकती है। नौकरीपेशा वालों कोप्रमोशन मिल सकता है।नौकरी में पदोन्नति वरिष्ठ सहकर्मियों से आपको सहयोग मिलेगा। आर्थिक लाभ और मान सम्मान में बढ़ोतरी होगी।हालांकि आपको अपने परिवार और वैवाहिक जीवन में संयम बरतना होगा, अपनी वाणी पर काबू रखें और किसी के लिए कटू या कठोर शब्दों काउपयोग न करें। गायत्री मंत्र का जाप किया जा सकता है।

कन्या

आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है।वाहन या भूमि की खरीदारी शुभ मुहूर्त में ही करें। चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है, और आपके बनते काम बिगड़ सकते हैं। राजनीति से संबंध रखने वाले लोगों को लाभ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

3 × 4 =